Wednesday, June 29, 2011

तेरी सोखी

वाह, तेरी सोखी बहुत भाति है |
वाह, तू अदाकारी क्या निभाती है |
वाह, तू हुश्न क्या बरपाती है |
वाह, तू क्या भरमाती है |

No comments:

Post a Comment