Wednesday, June 29, 2011

तेरे बेपनाह

तेरे बेपनाह हुश्न की तारीफ़ करता हूँ |
तेरे अंदाज़े बयां की तारीफ़ करता हूँ |
तेरी सादगी की तारीफ़ करता हूँ |
तेरी अदायगी की तारीफ़ करता हूँ |

No comments:

Post a Comment