Thursday, June 30, 2011

तेरी खूबसूरती

न पूछ तुझे किस तरह का बेपनाह हुश्न मिला है |
तेरी खूबसूरती को लगता, खुदा का ही हाथ लगा है |

No comments:

Post a Comment