Wednesday, June 29, 2011

खुदा हसीनों

खुदा हसीनों को हुश्न देता है, तो गुरुर क्यूँ देता है |
पल में कुछ होती है, पल में कुछ और हो जाती है |

No comments:

Post a Comment