Monday, December 26, 2011

कुछ ताबीर करने

कुछ ताबीर करने को दिल अब करता नहीं,
बुझा-बुझा सा रहता है, अब जलता भी नहीं,

.

No comments:

Post a Comment