Wednesday, December 14, 2011

रुके न कदम

रुके न कदम, कुछ यूँ मकाँ-दर-मकाँ चले,
राह को नापते गए, हर दर पर बैठते चले,


.

No comments:

Post a Comment