Wednesday, December 14, 2011

तेरी निज्बत में

तेरी निज्बत में, सर-ए-आलम, जिन्दगी बिता दी,
राहों से कांटे हटा दिए, हार राह में फूल बिछा दिए,

.

No comments:

Post a Comment