Wednesday, December 14, 2011

वक्त का दामन

वक्त का दामन थाम कर, राहों को नापता गया,
न जाने कितने पलों को, आहों से सेकता गया,

.

No comments:

Post a Comment