Monday, December 26, 2011

गम का मुन्तज़र

गम का मुन्तज़र, उसकी आशिकी को बना डाला,
किस-किस को इस आशिकी ने, शायर बना डाला,


.

No comments:

Post a Comment