Wednesday, December 14, 2011

तूने छेड़ा जिक्र

तूने छेड़ा जिक्र, तो मेरे हालात कुछ हो गए,
हाल-ए-हाल के, ख्यालात कुछ हो गए,
जिन्दगी कुछ हो गई, हालात कुछ हो गए,
न संभाले जा सके, वो जज़्बात कुछ हो गए,


.

No comments:

Post a Comment