Tuesday, January 25, 2011

ये नज़रों

ये नज़रों के तीर किसे,
नजराने में पेश कर रही हो,
हमें लगा तुम हमें,

बस हमें देख रही हो,

.

No comments:

Post a Comment