Sunday, May 1, 2011

फ़िदा मैं

नुमाइश न कर हुस्न की तुझे इश्क ने पुकारा |
हुआ तुझ पर फ़िदा मैं ज़माने को है ये नकारा |

No comments:

Post a Comment