Friday, September 30, 2016

नूर-ए-इल्म

नूर-ए-इल्म,
रोशनी की चमक में क्या पता चले,
स्याह पन्नों पर ही तो,
सुनहरे हर्फ दिखे,


No comments:

Post a Comment